Home Blog Page 6

बिग बॉस’ के बाद बंदगी-पुनीश ने इस गाने में पार की सारी हदें, हॉटलुक में किया जबरदस्त रोमांस

बिग बॉस के घर में अकशर लड़ाई प्यार दोस्ती देखने को मिलता था और जैसे ही घर के बाहर लोग आते हैं सब कुछ खत्म हो जाता है पर बिग बॉस सीजन 11 में ये नहीं हुआ.

बिग बॉस सीजन 11 के कंटेस्टेंट बंदगी कालरा और पुनीष शर्मा को अक्सर घर के अंदर एक साथ देखा जाता था. अब यही जोड़ी घर से बाहर भी एक साथ नजर आ रही हैं.

ये दोनों एक नए वीडियो में भी रोमांस का तड़का लगाती दिख रही है. बंदगी और पुनीश, मीत ब्रदर्स के नए गाने ‘लव मी..’ में नजर आ रहे हैं. इस गाने को गाया है सिंगर खुशबू ग्रेवाल ने. गाने में पुनीश और बंदगी फिर से अपनी हॉट केमिस्‍ट्री दिखाते नजर आ रहे हैं.

हालांकि इस नए गाने में पुनीश और बंदगी के रोमांस के अलावा और कुछ भी नहीं है. यानी इस गाने में इन दोनों की एक्टिंग या डांसिग स्किल की ज्‍यादा झलक देखने को नहीं मिलती है. फिर भी यह दोनों एक-दूसरे के साथ काफी अच्‍छे लग रहे हैं.

आपको याद दिला दें कि इससे पहले ‘बिग बॉस’ के सीजन 11 की हिना खान, प्रियांक शर्मा और बेनाफ्शा सोनावाला भी घर से निकलने के बाद वीडियो सॉन्‍ग में नजर आ चुके हैं. आप भी देखें पुनीश और बंदगी का यह रोमांटिक गाना.

इस गाने के रिलीज से पहले एक इंटरव्‍यू में पुनीश ने मीत ब्रदर्स के बारे में कहा था,

‘मीत ब्रदर्स, बॉलीवुड के सबसे कूल ब्रदर्स हैं. वह इस बॉलीवुड में परिवार से दूर रहने वालों के लिए एक परिवार की तरह हैं. वह शानदार गायक हैं और उतने ही शानदार इंसान भी.’

पुनीत दिल्‍ली के बिजनेसमैन हैं और उनका और बंदगी का रिश्‍ता इस रिएलिटी शो के दौरान ही बना था.

94 वर्ष की उम्र में करुणानिधि का निधन, जाने रोचक बातें उनके बारे में

0

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके अध्यक्ष एम करूणानिधि अब इस दुनिया में नहीं रहें। लम्बे समय से उनकी तबियत ठीक नहीं थी. उन्हें ब्लड प्रेशर की समस्या के चलते 28 जुलाई को चेन्नई के कावेरी अस्पताल में दाखिल करवाया गया था। जिसके बाद से उनके स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आ रही थी। आज 7 अगस्त 2018 को चेन्नई के कावेरी अस्पताल में अंतिम सांस ली.

आपको बता दे की उनकी उम्र 94 वर्ष था. हज़ारो की संख्या में कावेरी अस्पताल के बहार उनके समर्थक प्रार्थना कर रहे थे कि वह जल्द ही सेहतमंद हो जाएं, लेकिन बहुत ही दुःखद खबर आयी. कावेरी अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया है कि उनका स्वास्थ बीती रात से ज्यादा खराब हो चुकी थी।

टॉप 5 सबसे लंबे समय तक सत्तारूढ़ मुख्यमंत्री

आपको बता दे की एम करूणानिधि एक सफल और लोकप्रिय नेता थे. वो 18 वर्ष, 293 दिनों तक तमिलनडु के CM की कुर्षी पर रहें। उनका नाम भारत के टॉप 5 सबसे लंबे समय तक सत्तारूढ़ मुख्यमंत्री में था. करुणानिधि 5 बार तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे। जिसमें साल 1969, 1971, 1989, 1996 और 2006 शामिल है.

कई किताबे और सिनमा का पटकथा लिखते थे.

राजनेता होने के साथ-साथ करुणानिधि कई किताबें उपन्यास और नाटक भी लिख चुके थे। यही नहीं वो मूवी के लिए स्क्रीन राइटिंग और स्क्रिप्ट राइटिंग भी करते थे. सिनेमा से उनका काफी लगाव था. इसी के चलते उनके समर्थक प्यार से उन्हें कलाइनार यानि की कला का माहिर कहते थे। आपको बता दें कि करुणानिधि ने अपने जीवन के दौरान तीन शादियां की थी और उनके चार बेटे हैं।

14 वर्ष की आयु में पॉलिटिक्स ज्वाइन की 

करुणानिधि ने 14 साल की उम्र में राजनीति में प्रवेश किया, जो कि न्यायमूर्ति पार्टी के अलगिरिसवामी द्वारा भाषण से प्रेरित थे, और हिंदी विरोधी आंदोलनों में भाग लिया। उन्होंने अपने इलाके के स्थानीय युवाओं के लिए एक संगठन की स्थापना की। उन्होंने मानवार नेसन नामक एक हस्तलिखित समाचार पत्र को अपने सदस्यों के लिए प्रसारित किया। बाद में उन्होंने तमिलनाडु तमिल मनवर मंडराम नामक एक छात्र संगठन की स्थापना की, जो द्रविड़ आंदोलन का पहला छात्र विंग था। करुणानिधि ने स्वयं और छात्र समुदाय को अन्य सदस्यों के साथ सामाजिक कार्य में शामिल किया। यहां उन्होंने अपने सदस्यों के लिए एक समाचार पत्र शुरू किया, जो द्रमुक पार्टी के आधिकारिक अख़बार मुरासोली में बढ़ी।

गौरतलब है कि करुणानिधि के साथ ही देश की राजनीति का एक के इतिहास का एक पन्ना भी समाप्त हो गया। देश और अपने इलाके के विकास के लिए करुणानिधि का दिया गया योगदान हमेशा याद रखा जाएगा।

कपिल शर्मा का हुआ और बुरा हाल, बेहद बुरे दौर से गुजर रहे हैं.

समय कभी एक सामान नहीं होता हैं, इसका जीता जागता उद्हारण मशहूर कॉमेडियन कपिल शर्मा हैं. कभी लोगो को चेहरे पर मुस्कान बिखरने वाला कॉमेडियन आज खुद दुःख के सागर डूबा हैं.

मशहूर कॉमेडियन कपिल शर्मा लंबे वक्त से टीवी की दुनिया से दूर हैं. यहां तक की वह सोशल मीडिया पर भी अब एक्टिव नहीं रहते हैं. उनके चहेते दर्शकों के मन में ये सवाल जरूर उठ रहा होगा की आखिर वाले मशहूर कॉमेडियन कपिल शर्मा इन दिनों कहां हैं ?

हाल में इंटरनेट पर एक तस्वीर वायरल हुआ जिसे देखकर आप समझ जायेंगे की उनकी तबियत बेहद बुरा हैं.

कपिल शर्मा का का समय बेहद ख़राब

यह तस्वीर twitter पर कपिल शर्मा फैन क्लब ने शेयर की है. इसमें कपिल अपने सबसे करीबी दोस्त चीकू के साथ नजर आ रहे हैं। तस्वीर में कपिल शर्मा बीमार लग रहे है और उनकी दाढ़ी बढ़ी हुई है। हालांकि कैमरा को देखकर वह मुस्कुरा रहे हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक कपिल शर्मा डिप्रेशन का शिकार है और अभी यूरोप में वो अपना इलाज करवा रहे हैं. यह तस्वीर वही ली गयी हैं. इसमें साफ़ नजर आ रहा हैं की उनका वजन बढ़ा हुआ हैं. चेहरे पर परेशानी साफ झलक रही है.

ऐसा ही कुछ समय पहले भी एक तस्वीर वायरल हुआ था जिसमे वो एयरपोर्ट पे नज़र आ रहे थे उसमे भी उनका वजन बारे हुआ था.

कपिल शर्मा का पहले भी तस्वीर वायरल हुआ था

कुछ समय पहले कपिल शर्मा ने सोशल मीडिया पर वापसी की थी और फैंस से ट्विटर पर चैट की थी। इस दौरान कपिल ने फैंस के सवालों का जवाब देते हुए कहा था कि वह ट्रेवल कर रहे थे और तब तक सामने नहीं आएंगे जब तक शेप में नहीं आ जाते। वहीं अब कपिल शर्मा का यह नया लुक उनके फैंस के लिए चौंकाने वाला है।

आपको बता दें, कपिल उस वक्त विवादों में आ गए थे जब उन्होंने ‘हिचकी’ फिल्म का प्रमोशन करने आईं रानी मुखर्जी को घंटों इंतजार कराया और फिर शूट कैंसिल कर दिया था। उसके बाद रिपोर्ट्स से फोन पर गाली-गलौच करने को लेकर भी उनका नाम सामने आया था।

कपिल शर्मा एक बेहतरीन और उम्दा हुआ कलाकार हैं. हम भगवान से जल्द वापसी की कामना करते हैं.

नया नियम: ट्रेन लेट होने पर अब यात्रियों को मिलेगा मुफ्त खाना, पढ़ें

0

भारत के लाइफ लाइन मानी जानी वाली रेलवे आज कल लेट लतीफ़ हो गयी हैं. रोज सैकड़ो यात्री इसका शिकार होते हैं. ऐसे में रेलवे को कई दफा आलोचनाओं का शिकार होना भी पड़ जाता है. अब रेलवे बोर्ड ने इस से लड़ने के लिये युद्ध स्तर पर अपनी तैयारी शुरू कर दी है.

दरअसल पिछले कुछ महीने से रेलवे एक्सीडेंट को देखते हुए अपने पटरियों और अन्य इंफ्रास्ट्रक्चर के सुधार में लगा हुआ हैं, जिस कारन से रोज सैकड़ो ट्रैन लेट हो जा रही थी.

यात्रियों को इस से होने वाली परेशानी को देखते हुये रेलवे बोर्ड कुछ नए नियम लागु किये हैं.

नियम 1. रेलवे अब रखरखाब का सारा कार्य अवकाश के दिन यानी रविवार को ही किए जाएंगे.

यात्रियों को रखरखाब कार्य से होने वाली परेशानी को देखते हुये रेलवे बोर्ड ने फैसला लिया हैं की अब मेन्टेन्स वर्क सिर्फ रविवार को ही किया जायेगा। इन कार्यों को पूरा करने के लिए रेलवे 6-6 घंटे के ब्लॉक लेगा जिससे ट्रेने थोड़ा देरी से चलेगी. ये सारे कार्य रविवार या अवकाश के दिन ही किये जायेंगे।

नियम 2. अब ट्रैन लेट होने पर मिलगा मुफ्त खाना

यात्रियों को इससे ख़ासा परेशानी भी होने की उम्मीद की जा रही है जिसको देखते हुए ही रेलवे ने तय किया है कि लेटलतीफी की वजह से अगर किसी भी यात्री को लंच या डिनर के वक्त देरी होती है तो उन्हें रेलवे की ओर से खाना और पानी मुफ्त में उपलब्ध कराया जाएगा.

यह काम पुरे एक साल तक चलेगा, जिससे कई यात्रियों को असुविधा भी होगी, इसी परेशानी को रेलवे अपनी तरफ से मुफ्त खाना मुहैया कराते हुए दूर करने की कोशिश में है. अब ये तो समय बताएगा की क्या ये कारगर साबित होगा।

नियम 3. SMS के जरिये यात्रियों को मिलेगी जानकारी

रेलवे ने आगे कहा की यात्रियों को पहले ही एसएमएस और विज्ञापनों के जरिए दे दी जाएगी जानकारी| यह कार्य करने के लिए रेलवे 6-6 घंटे के ब्लॉक बनाएगा

रेलवे बोर्ड ने ये भी कहा कि,

“अगर ट्रेन लेट होती है तो रिजर्व क्लास में यात्रा करने वाले यात्रियों को मुफ्त भोजन और पानी रेलवे उपलब्ध कराएगा. रविवार के अलावा बाकी दिनों में दो दो घंटे के ब्लॉक लेकर रखरखाव के कार्य किए जाएंगे.”

आपको बता दे की सोमवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि,

“रेलवे मेन्टनन्स का कार्य बरसों से बकाया रहा है. इसी वजह से रेलवे चाहता है कि अब प्लानिंग के साथ मेन्टनन्स का कार्य किया जाए ताकि रेलवे में बड़े पैमाने पर सुधार हो सके. इसके लिए बाकायदा मेन्टनन्स कार्य की अवधि को भी टाइम टेबल में शामिल किया जाएगा.”

गौरतलब है कि अब तक आए दिन किसी न किसी वजह के चलते ट्रेनों के लेट होने पर यात्रियों को खासा परेशानियों से झूझना पड़ता था, ऐसे में अब रेलवे के रख-रखाव के चलते यदि कोई ट्रैन रविवार के दिन देर हुई तो रेलवे की ओर से उन्हें मुफ्त खाना देने की सुविधा दी जायेगी

Bigg Boss 12: सलमान खान के ‘Bigg Boss 12’ शो आएगा ये बड़ा ट्विस्ट

बिग्ग बॉस सीजन ११ के सफलता को देखते हुए, शो के मेकर्स ने Bigg Boss Season 12 मे कुछ नया और मनोरंजक करने को सोचे है|

शो के फॉर्मेट से लेकर शो का schedule भी इस बार चेंज हो गया है|

रिपोर्ट्स के मुताबिक ‘बिग्ग बॉस 12’ इस बार एक महीना पहले शुरू हो रहा है यानि कि 12 सितंबर से, पिछले वर्ष ये शो ओक्टोबर में सुरु हुआ था|

इस बार शो में 13 जोड़ियां होगीं जिसमें से 7 जोड़ी कॉमनर तो वहीं 6 जोड़ी सेलिब्रिटीज की होंगी। इसमें से दो जोड़ी फाइनल हो चूका हैं|

बिग्ग बॉस सीजन 12 का थीम कपल हैं

बिग्ग बॉस सीजन ११ में जहा थीम ‘पड़ोसी’ था तो वहीं इस बार ‘कपल्स’ यानी जोड़ी थीम है| इस बार जो भी candidate शो में पार्टिसिपेट करेगा उसे जोड़ी में आना होगा। ये नियम दोनों यानि commoner और सेलिब्रिटी दोनों पे लागु होता है| आपको बता दे की नॉमिनेशन की सारी परीकिरिया पूरी हो चुकी है|

बिग्ग बॉस सीजन 12 के 5 प्रोमो

शो के मेकर्स अभी से इसके नए सीजन की तैयारी में जुट गए हैं| इसी महीने बहुत जल्द ही शो के होस्ट सलमान खान नए सीजन के लिए प्रोमो शूट करेंगे। ये एक दो प्रोमो नहीं बल्कि पुरे 5 प्रोमो शूट करेंगे| ये प्रोमो मुंबई के महबूब स्टूडियो में शूट किए जाएंगे| ख़ास बात ये है कि सलमान खान के शो के प्रोमो को एक-एक करके कलर्स चैनल पर टेलीकास्ट किया जाएगा|

Bigg Boss सीजन 12 के कपल कंटेस्टेंट

बिग्ग बॉस सीजन 12 के संभाभित सेलिब्रिटी कंटेस्टेंट के नाम सामने आ रहे है| अभी तक जो फाइनल नाम है वो है इश्कबाज’ सीरियल में काम कर चुकी टीवी एक्ट्रेस सृष्टि रोडे| सृष्टि रोडे अपने मंगेतर और एक्टर मनीष नागदेव के साथ शो में कंटेस्टेंट के तौर पर हिस्सा लेंगी|

A post shared by Srishty Rode (@srishtyrode24) on

A post shared by (@scarlettmrose) on

A post shared by (@scarlettmrose) on

A post shared by (@scarlettmrose) on

इनके अलावा Splitsvilla फेम मॉडल-एक्ट्रेस स्कारलेट रोज को कंटेस्टेंट के तौर पर फाइनल किया गया है| स्कारलेट रोज अपने सबसे अच्छे दोस्त रयान पीटरसन के साथ एंट्री लेने वाली हैं|

Controversial कपल कंटेस्टेंट लेंगे हिसा

रिपोर्ट्स को मने तो, शो के मेकर्स अलग या तलाकशुदा जोड़े को शो में लाने की पुरी कोशिस कर रहें हैं| आपको मालुम होगा की सीजन 11 में ओल्ड कंट्रोवर्सी ने शो को TRP और sucess दिलायी थी|

आप अपना सुझाव comment बॉक्स में बताओ| इस पेज को शेयर करे और हमें सोशल मीडिया पे लाइक करें| 

UP पुलिस का कला सच- पैसा दो और एनकाउंटर करवाओ!

0

देश में जहाँ एनकाउंटर को बंद करने के लीये लोग पूरी जोर लगा रहे है। वही UP पुलिस ने सरे हदें पर कर दी।प्रमोशन, पैसा और पब्लिसिटी…ये तीनों हासिल करने के लिए उत्तर प्रदेश के सारे नहीं, तो कुछ पुलिस अधिकारी शार्ट कट के तौर पर फर्जी मुठभेड़ों का रास्ता अपनाने के लिए भी तैयार लगते हैं। इंडिया टुडे के एक स्टिंग ऑपरेशन में या बात खुल के सामने आयी जिसमे एक पुलिस वाले ने या बात खुल के बतायी।

डीजीपी ने पैसे लेकर फर्जी एनकाउंटर करने वाले स्टिंग के सामने आते ही आरोपी तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है.

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने तीन आरोपी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने के साथ ही मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं. आगरा के एसएसपी अमित पाठक ने तीनों पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किए जाने की पुष्टि की है. विभागीय जांच एडिशनल एसपी को दे दी है.

फ़िलहाल योगी जी या बात को मानाने से इंकार कर रहे है। आपको बताते की योगी सरकार के कार्यकाल के दौरान मुठभेड़ों में मरने वालों का आंकड़ा 60 से ऊपर पहुंच गया है। सिर्फ आगरा ज़ोन में 241 मुठभेड़ हुई हैं।

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक मार्च 2017 से अब तक उत्तर प्रदेश पुलिस की ओर से की गई करीब 1500 मुठभेड़ों में 400 के आसपास लोग घायल हुए हैं। इंडिया टुडे की स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम की जांच से सामने आया कि यूपी पुलिस के कुछ सदस्य झूठे मामलों में निर्दोष नागरिकों को फंसा रहे हैं और फिर उन्हें फर्जी मुठभेड़ों में शूट कर रहे हैं। ये सब तरक्की और दूसरों से पैसा लेकर किसी को ठिकाने लगाने के इरादे से किया जा रहा है।

यूपी में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से सिर्फ आगरा ज़ोन में 241 मुठभेड़ हुई हैं। स्थानीय चित्राहाट पुलिस स्टेशन के एक सब इंस्पेक्टर ने एक निर्दोष नागरिक को मारने के लिए आठ लाख रुपये कीमत लगाई। इंडिया टुडे के अंडर कवर रिपोर्टर्स ने जांच के तहत खुद को कारोबारी बताते हुए अपने एक काल्पनिक प्रतिस्पर्धी को फर्जी मामले में फंसाने के लिए सब इंस्पेक्टर से संपर्क किया। इसी दौरान फर्जी मुठभेड़ का मामला सामने आया।

पुण्य प्रसून बाजपेयी ने खोला ABP न्यूज़ का सबसे बड़ा राज़, पढ़ें

0

हाल ही में देश के न्यूज़ चैनल एबीपी न्यूज़ ने अपनी प्रतिष्ठा खो डाली है। बेबाक पत्रकारिता की जगह अब चैनल पर गोदी मीडिया द्वारा साहेब के गुणगान हो रहे हैं। अब चैनल के सिग्नल भी अच्छी तरह से आ रहे हैं। दरअसल ये सारा खेल चैनल और मोदी सरकार की मिलीभगत से रचा गया था। क्योंकि पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने अपने मास्टर स्ट्रोक से बीजेपी की धज्जियाँ उड़ानी शुरू कर दी थी।

1. चैनल ने कहा- मास्टर स्ट्रोक में मोदी का नाम न लें

दरअसल मास्टर स्ट्रोक के जरिये चैनल की टीआरपी भी आसमान छू रही थी, लेकिन चैनल के मालिक चाहते थे कि पुण्य प्रसून बाजपेयी अपनी रिपोर्टिंग में सीधे प्रधानमंत्री के बारे में कुछ न बोले। चैनल का आदेश था कि मास्टर स्ट्रोक में प्रधानमंत्री मोदी का न तो नाम आना चाहिए और न ही उनकी कोई भी वीडियो शो में दिखनी चाहिए।

2. नरेंद्र मोदी बन चुका है बीजेपी का मतलब

सबसे दिलचस्प बात ये है साल 2014 में सत्ता में आई बीजेपी सरकार का मतलब नरेंद्र मोदी है। इस वक़्त हर नीति के लिए बीजेपी का नहीं बल्कि मोदी का नाम ही लिया जाता है। अन्य न्यूज़ चैनल दिन भर पीएम मोदी की वीडियोज चलाते रहते हैं। तो मास्टर स्ट्रोक में पीएम मोदी की वीडियो दिखाने पर इतना बवाल क्यों है ?फर्क सिर्फ इतना है कि गोदी मीडिया पीएम मोदी की गलत नीतियों की सही बताकर फर्जी खबरें चलाता है।

3. मास्टरस्ट्रोक में होता था मोदी सरकार के फर्जीवाड़े का पर्दाफाश

पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी के मास्टर स्ट्रोक में इसी फर्जीवाड़े का पर्दाफाश किया जाता है। जिससे मोदी सरकार की सच्चाई उजागर होती थी। माना जाता है कि मीडिया कभी भी सत्तापक्ष नहीं होता। मीडिया का दायित्व है कि वह लोगों तक सरकार की सच्चाई लाए। लेकिन आज के दौर में उल्टा है, सरकार का तो कोई दीन-ईमान है ही नहीं। बल्कि मीडिया भी सरकार के हाथों बिक चुका है।

4. गोदी मीडिया दिनभर करता है मोदी-मोदी

आज के वक़्त में गोदी मीडिया दिन बाहर मोदी सरकार की झूठी खबरें बढ़ा चढ़ा कर चैनल पर चलाते रहते हैं। क्योंकि इससे उनकी टीआरपी बढ़ती है। मोदी भक्तों के घरों में सारा दिन ज़ी न्यूज़ और इंडिया न्यूज़ जैसे चैनल चलते हैं, जिन्हे सिर्फ मोदी के बारे में ही सुनना है।

निष्कर्ष:

गौरतलब है कि ईमानदारी के आगे मोदी सरकार का कोई बस नहीं चलता। ईमानदारी एक ऐसी ताकत है, जो बड़े-बड़ों के घुटने टिकवा देती है।

मोदी और रिलायंस की दोस्ती जनता को पड़ी महंगी, गरीब जनता हुई बेहाल, पढ़ें

0

मोदी और रिलायंस की दोस्ती जनता को पड़ी महंगी, गरीब जनता हुई बेहाल, पढ़ें

इस वक़्त देश की सरकार संविधान के मुताबिक नहीं बल्कि पूंजीपतियों के नियमों से चल रही है। देश के कुछ बिजनेसमैन घरानों और पीएम मोदी की दोस्ती तो जगजाहिर हो चुकी है। कई मौकों पर सरकार ने साबित किया है कि देश में लोकतंत्र नहीं पूंजीतंत्र चल रहा है। अंबानी और अडानी ने साल 2014 में मोदी सरकार में तगड़ी इन्वेस्टमेंट की है। जिसका फल अब वह सत्ता के जरिये खा रहे हैं।

1. पूंजीपतियों के करीबी दोस्त हैं मोदी

सोशल मीडिया पर कई बार पीएम मोदी की अंबानी और अडानी के साथ गले मिलते हुए तस्वीरें वायरल होती रहती हैं। जबकि इससे पहले किसी भी प्रधानमंत्री की ऐसी तस्वीरें सामने नहीं आई हैं। आपको बता दें कि देश के जाने-माने बिजनेसमैन कुकेष अंबानी की रिलायंस ग्रुप को मोदीराज में काफी फायदा मिल रहा है। खबर के मुताबिक, सिंगापुर के एक कोर्ट रिलायंस ग्रुप को 30 हजार करोड़ रुपए की प्राकृतिक गैस चुराने के मामले में बड़ी राहत दे दी है।

2. ONGC को मिली बड़ी हार

आपको बता दें कि पब्लिक सेक्टर कंपनी ओएनजीसी रिलायंस से केस हार गई है। जिसके चलते देश को ३० हजार करोड़ का नुक्सान हो गया है। गौरतलब है कि ओएनजीसी दुनिया की सबसे नामी तेल कंपनियों में से एक है और पब्लिक सेक्टर कंपनी होने के कारण इसमें देश की जनता के भी पैसे लगे हुए हैं।

3.  देश को रिलायंस के हाथों हुआ 30,000 करोड़ रुपये का नुक्सान

आपको बता दें कि 15 मई, 2014 को ओएनजीसी ने दिल्ली हाई कोर्ट में केस दायर कर आरोप लगाया था कि आंध्र प्रदेश कृष्णा-गोदावरी बेसिन समुंदरी क्षेत्र में ओएनजीसी और रिलायंस को नेचुरल गैस निकालने का कॉन्ट्रैक्ट मिला था। लेकिन रिलायंस ने इस दौरान दोनों ब्लॉकों की सीमा के बिलकुल करीब से गैस निकाली तो ओएनजीसी के ब्लॉक की गैस भी रिलायंस के ब्लॉक में चली गई। ओएनजीसी का आरोप है कि रिलायंस द्वारा गैस की चोरी की गई है। जिससे 30,000 करोड़ रुपये का नुक्सान हो गया है।

4. ONGC में रहते हुए सांबित पात्रा ने रिलायंस को दिलाया बड़ा फायदा

गौरतलब है कि साल 2014 में केंद्र में मोदी की सरकार बनने के बाद पार्टी के चमचों में से एक सांबित पात्रा को एक अहम स्थान दिया गया है। मोदी सरकार ने सांबित पात्रा को ओएनजीसी का डायरेक्टर बना दिया गया है। जिसके बाद ही रिलायंस के पक्ष में ये बड़ा फैसला लिया है। जोकि मोदी सरकार पर एक बड़ा सवाल खड़ा करता है।

निष्कर्ष:

देश की सरकार जनता को मूर्ख बनाकर सीधे तौर पर पूंजीपतियों का फायदा करवा रही है। फिर चाहे वह नोटबंदी का फैसला हो, जीएसटी लागू करने या फिर रिलायंस को केस जितवाने का।

Jet Airways लुटने के कगार पर, जनता को अपने टैक्स के पैसे से चुकाना होगा 2600 करोड़, पढियें

0

Jet Airways एक जानी मानी एयरलाइन कंपनी है जो की अब बंद होने के कगार पैर है। ऐसे में वो राज जो पिछले कई सालों से छुपाया जाता रहा है। वो राज हम आपको बताने जा रहे हैं। जेट एयरवेज की कहानी बड़ी दिलचस्प और अलग है।

1. देश की सबसे बड़ी विमानन कंपनियों में से एक है जेट

देश में जेट एयरवेज का नाम टॉप कंपनियों में शुमार है। अपनी बेहतरीन सर्विस के लिए जाने जाते जेट एयरवेज की उड़ानें पूरी दुनिया में मुसाफिरों को पहुंचाती हैं। दुबई की एतिहाद एयरवेज का भी इस कंपनी में काफी हिस्सा है। ये कंपनी भारतीय शेयर बाजार में लिस्टेड है। हालाँकि आजकल इस कंपनी के शेयर आज कल कुछ ख़ास नहीं कर पा रहे हैं लेकिन निवेशकों का यकीन आज भी इस कंपनी में है।

2. विदेशी उड़ानों का परमिट पाने वाली पहली कम्पनी थी जेट

बात तब की है जब देश में मौजूद निजी विमान कंपनियों को सिर्फ देश में ही उड़ान सेवाएं देने की मंजूरी थी। इस वक़्त देश में भाजपा सरकार का शासन था। सरकार देश के विमानन क्षेत्र को विकसित करने के लिए इस क्षेत्र में एफडीआई लाने की तैयारी में लगी हुई थी। जब इस क्षेत्र में एफडीआई निवेश को अनुमति मिली तो इंटरनेशनल फ्लाइट्स की मंजूरी पाने वाली जेट एयरवेज पहली कंपनी थी।

जेट की उड़ानों के पर कुतरने के लिए सरकार अमेरिकन कम्पनी एयरवेज इंक ने एक पत्र लिखा जिसमें उन्होंने जेट एयरवेज के निवेशकों के बारे में गंभीर आरोप लगाए थे।

3. अलकायदा से जुड़े होने का था आरोप

अमेरिकन कम्पनी एयरवेज इंक का कहना था कि इस कंपनी में अलकायदा का पैसा लगा हुआ है। कंपनी के इस आरोप की भारत सरकार द्वारा कोई जांच नहीं की गई और न ही उसकी उड़ानों पर रोक लगाई गई। इस दौरान देश की खुफ़िआ एजेंसी आईबी ने लालकृष्ण अडवाणी को भी खबर दी थी।

आईबी ने जेट के मालिक नरेश गोयल की छोटा शकील और दाऊद के साथ फ़ोन पर बातचीत के रिकॉर्ड होने की बात भी अडवाणी को बताई थी लेकिन इस महान पुरुष द्वारा बात ठन्डे बस्ते में डाल दी गई।

4. नीरव मोदी और गुप्ता बंधुओं के ख़ास हैं गोयल

देश की जनता का पैसा लेकर विदेश भागे नीरव मोदी और दक्षिण अफ्रीका के गुप्ता बंधुओं के साथ गहरे सम्बन्ध हैं। मीडिया तक ये खबर भी पहुंची है कि गुप्ता बंधुओं का भारी-भरकम कस्टम ड्यूटी का सामान जेट एयरवेज के जरिये चुपके से इधर से उधर किया जाता है।

निष्कर्ष:

देश में न खाऊंगा न खाने दूंगा का भाषण देने वाली पार्टी; “ले जाऊंगा और ले जाने दूंगा” की नीति पर काम करती आ रही है।
error: Content is protected !!